कंप्यूटर के प्रकार

विकिविश्वविद्यालय से
Jump to navigation Jump to search

यह पाठ्यक्रम कंप्यूटर का परिचय में एक पाठ है, जो कंप्यूटर विज्ञान के विद्यालय का एक हिस्सा है।


कंप्यूटर के प्रकारो को मुख्यत तीन भागों में बांटा गया हैं।

  1. कार्य प्रणाली के आधार पर
  2. उद्देश्य के आधार पर
  3. आकार के आधार पर

Types of computer chart.jpg

कार्य प्रणाली के आधार पर[सम्पादन | स्रोत सम्पादित करें]

कार्य प्रणाली के आधार पर कंप्यूटर को तीन भागों में बांटा गया हैं।

एनालॉग कंप्यूटर

ये वे कंप्यूटर होते हैं जो भौतिक मात्राओ जैसे दाब, ताप, लंबाई- चौड़ाई आदि को मापकर उनके परिमाण व्यक्त करते हैं। ये कंप्यूटर किसी राशि का परिमाण तुलना के आधार पर करते हैं जैसे थर्मामीटर

डिजिटल कंप्यूटर

डिजिट का अर्थ होता हैं अंक। मतलब ये कंप्यूटर वे कंप्यूटर होते हैं जो अंको की गणना करते हैं। डिजिटल कंप्यूटर बाइनरी अंको पर आधारित होते हैं। मतलब आप मान सकते हैं कि जो भी एलेक्ट्रोनिक डिवाइस हैं वे एक डिजिटल कंप्यूटर हैं। उदाहरण के लिए, कैल्कुलेटर एक डिजिटल कंप्यूटर हैं।

हाइब्रिड कंप्यूटर

हाइब्रिड का अर्थ होता हैं अनेकों गुण वाला। अर्थात वे कंप्यूटर जिनमे एनालॉग कंप्यूटर और डिजिटल कंप्यूटर दोनों के गुण हो। वे कंप्यूटर हाइब्रिड कंप्यूटर कहलाते हैं। उदाहरण के लिए, पट्रोल पम्प की मशीन एक हाइब्रिड कंप्यूटर हैं। क्यूकी उसमे पम्प से तेल निकालने की मात्रा को एनालॉग कंप्यूटर द्वारा मापा जाता हैं और डिजिटल कंप्यूटर द्वारा उस माप को स्क्रीन पर अंको (अर्थात डिजिट) के रूप में दिखाया जाता हैं।

उद्देश्य के आधार पर[सम्पादन | स्रोत सम्पादित करें]

सामान्य कंप्यूटर

ऐसे कंप्यूटर जिनहे सामान्य उद्देश्य को पूरा करने के लिए तैयार किया जाता हैं वे सामान्य कंप्यूटर कहलाते हैं। इन कंप्यूटर को अनेक कार्य करने की क्षमता होती हैं। इनके सीपीयू की क्षमता और कीमत दोनों कम होती हैं। जैसे लेटर टाइप करने की एलेक्ट्रोनिक मशीन आदि

विशेष कंप्यूटर

ये ऐसे कंप्यूटर होते हिन जिन्हें विशेष उद्देश्य को पूरा करने के लिए तैयार किया जाता हैं। इनके सीपीयू की क्षमता इनके कार्य के अनुरूप होती हैं। जिसके लिए इन्हें तैयार किया जाता हैं। जैसे अन्तरिक्ष विज्ञान कंप्यूटर, मौसम विज्ञान कंप्यूटर और यातायात नियंत्रक आदि।

आकार के आधार पर[सम्पादन | स्रोत सम्पादित करें]

सुपर कंप्यूटर
कोलंबिया सुपर कंप्यूटर

सुपर कंप्यूटर सबसे तेज और सबसे महंगे कंप्यूटर हैं। ये विशाल कंप्यूटर बहुत जटिल विज्ञान और इंजीनियरिंग समस्याओं को हल करने के लिए उपयोग किये जाते हैं। सुपरकंप्यूटर समानांतर प्रसंस्करण (parallel processing) का लाभ उठाकर अपनी 'प्रसंस्करण (Processing) शक्ति प्राप्त करते हैं. वे एक समस्या पर एक ही समय में बहुत से सीपीयू (CPU) का उपयोग करते हैं। एक टिपिकल सुपर कंप्यूटर दस खरब गणना हर सेकंड में कर सकते हैं।

उदाहरण सुपर कंप्यूटर:

सर्वर कंप्यूटर
रैक यूनिट सर्वर के अन्दर के भाग का चित्र

सर्वर कंप्यूटर सुपरकंप्यूटर से एक कदम पीछे के कंप्यूटर हैं। क्योंकि ये कंप्यूटर बहुत ही जटिल समस्या को हल करने की कोशिश करने पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं। लेकिन कई इसी तरह छोटी समस्या को हल करने का प्रयास करता हैं। एक सर्वर कंप्यूटर का उदाहरण वह कंप्यूटर है जो कि विकिपीडिया अपनी वेबसाइट पर अपने ज्ञानकोश को संग्रहीत करने के लिए करती हैं। यह कंप्यूटर आपके द्वारा भेजे गए आवेदन को प्राप्त करके पेज को ढूंढते है। और आपको भेजते है। यह अपने आप में एक बड़ा काम नहीं है, लेकिन यह एक सर्वर के लिए एक काम बन जाता है जब कंप्यूटर को बहुत से लोगों के आवेदन के लिए बहुत से पृष्ठ मिलते हैं और उन्हें सही स्थान पर भेजना पड़ता है।

एक सर्वर एक केंद्रीय कंप्यूटर है जिसमें डेटा और प्रोग्राम का संग्रह होता हैं। इसके अलावा इसे नेटवर्क सर्वर भी कहा जाता है। यह सिस्टम सभी कनेक्ट यूजर को इलेक्ट्रॉनिक डेटा और एप्लिकेशन को साझा करने और संग्रहीत करने की अनुमति देता हैं। सर्वर के दो महत्वपूर्ण प्रकार फ़ाइल सर्वर और एप्लीकेशन सर्वर हैं।

वर्कस्टेशन कंप्यूटर

वर्कस्टेशन उच्च स्तरीय, महंगे कंप्यूटर हैं जो अधिक जटिल प्रक्रियाओं के लिए बने हैं और एक समय में एक यूजर के प्रयोग के लिए होते हैं। इसमें कुछ जटिल प्रक्रियाए विज्ञान, गणित और इंजीनियरिंग गणना शामिल है और इसको कंप्यूटर डिजाइन और विनिर्माण के लिए उपयोगी करते हैं। वर्कस्टेशन को कभी-कभी व्यापार कारणों के लिए नामांकित किया जाता हैं। रियल वर्कस्टेशन आमतौर पर खुदरा में नहीं बेचे जाते हैं, लेकिन यह बदलना शुरू हो रहा है; एप्पल के मैक प्रो को वर्कस्टेशन माना जाएगा।

फिल्म टॉय स्टोरी सन (स्पार्क) वर्कस्टेशनों के एक सेट पर बनाई गई थी।[1]


पर्सनल कंप्यूटर या पीसी
एक पर्सनल कंप्यूटर (पीसी)

पीसी एक पर्सनल कंप्यूटर के लिए संक्षिप्त नाम हैं। यह माइक्रो कंप्यूटर के रूप में भी जाना जाता हैं। इसकी भौतिक विशेषताओं और कम लागत आकर्षक हैं और अपने यूजर के लिए बहुत उपयोगी हैं। इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर की शुरूआत के बाद से पर्सनल कंप्यूटर की क्षमताओं में बहुत बदलाव आया हैं। 1970 के दशक के आरंभ में, शैक्षणिक या अनुसंधान संस्थानों में लोगों को एक ही समय में कंप्यूटर सिस्टम के उपयोग के लिए विस्तारित अवधियों के लिए इंटरैक्टिव मोड में अवसर मिला, हालांकि यह प्रणालियां एक एकल व्यक्ति के स्वामित्व में बहुत महंगी होती थी।

आज पर्सनल कंप्यूटर एक आस-पास के उपकरण है जिसका उपयोग उत्पादकता उपकरण, मीडिया सर्वर और एक गेमिंग मशीन के रूप में किया जा सकता हैं। पर्सनल कंप्यूटर का मॉड्यूलर निर्माण घटकों को आसानी से स्वैप होने की अनुमति देता है।

माइक्रोकंट्रोलर
एक अरडिनो, एक सामान्य प्रोग्राम माइक्रोकंट्रोलर

माइक्रोकंट्रोलरर्स मिनी कंप्यूटर हैं जो उपयोगकर्ता को डेटा संग्रहीत करने और सरल आदेश और कार्य निष्पादित करने में सक्षम बनाता हैं। ये एकल सर्किट डिवाइसेस में न्यूनतम मेमोरी और प्रोग्राम लम्बाई होती है लेकिन सामान्य रूप से एक आला कार्य प्रदर्शन करने के लिए बहुत अच्छा बनाया जाता हैं। ऐसी कई प्रणालियों को एम्बेडेड सिस्टम के रूप में जाना जाता हैं। आपकी कार का कंप्यूटर, उदाहरण के लिए एक एम्बेडेड सिस्टम हैं। एक सामान्य माइक्रोकंट्रोलर जिसे किसी के पास आ सकता है उसे आर्डिनो कहा जाता है।

यह भी देखें[सम्पादन | स्रोत सम्पादित करें]